Error message

Warning: Creating default object from empty value in ctools_access_get_loggedin_context() (line 1411 of /var/www/html/sites/all/modules/ctools/includes/context.inc).

निदेशक के डेस्क से

सूचना, इलेक्ट्रॉनिकी एवं संचार प्रौद्योगिकियों (आईईसीटी) के क्षेत्रों में नवोन्मेष एवं क्षमता निर्माण की इच्छा रखते हुए और विद्यार्थियों तथा प्रोफेशनलों को उत्कृष्ट मानव संसाधन बनने की शक्ति प्रदान करने के मिशन से तथा देश के वैज्ञानिक एवं औद्योगिक विकास में योगदान करने के उद्देश्य से, राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (नाइलिट), गोरखपुर ने उत्तर भारत में एक अग्रणी संस्थान का दर्जा हासिल कर लिया है।

इस केन्द्र (पूर्वतन इलेट्रॉनिकी डिजाइन एवं प्रौद्योगिकी केन्द्र-सीईडीटी) की स्थापना जून, 1989 में भारतीय इलेक्ट्रॉनिकी डिजाइन एवं प्रौद्योगिकी केन्द्र (सीईडीटीआई) के रूप में की गई थी। उस समय से ही यह केन्द्र विभिन्न औपचारिक तथा अनौपचारिक पाठ्यक्रमों के माध्यम से अद्यतन तकनीकी जानकारी के क्षेत्रों में उद्योग उन्मुखी अच्छी क्वालिटी के शिक्षण तथा प्रशिक्षण कार्यक्रम चला रहा है। यह केन्द्र अनुसंधान एवं विकास के साथ-साथ उत्पाद विकास तथा औद्योगिक परामर्श सेवाओं के कार्य भी कर रहा है।

उद्योग उन्मुखी अच्छी क्वालिटी के शिक्षण तथा प्रशिक्षण के विकास का मार्गदर्शक बनने के विजन से, नाइलिट गोरखपुर सभी प्रकार के सही कदम उठा रहा है। उत्तर प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय के सहयोग से, यह केन्द्र एआईसीटीई द्वारा विधिवत अनुमोदित इलेक्ट्रॉनिक डिजाइन एवं प्रौद्योगिकी में एम.टेक पाठ्यक्रम चला रहा है। उपर्युक्त के अतिरिक्त, केन्द्र द्वारा इलेक्ट्रॉनिकी तथा सूचना प्रौद्योगिकी के विशिष्ट क्षेत्रों में विभिन्न स्नातकोत्तर डिप्लोमा कार्यक्रम और सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम भी नियमित रूप से चलाए जाते हैं। इन पाठ्यक्रमों का उद्देश्य औपचारिक डिग्री कार्यक्रमों के मान में संवर्धन करना है जिससे रोजगार के अवसरों में सुधार हो सके तथा नियमित शैक्षिक कार्यक्रमों और उद्योग की आवश्यकताओं के बीच अन्तराल को दूर किया जा सके।

नाइलिट की शैक्षिक उत्कृष्टता हासिल करने की दिशा में अग्रसर होने, व्यवहार उन्मुखी प्रशिक्षण प्रदान करने तथा समग्र विकास के लिए एक अनुकूल वातावरण प्रदान करने की एक समृद्ध परम्परा है। उत्कृष्ट अध्यापन, पर्याप्त मूलसंरचना के अतिरिक्त, शिक्षक-वर्ग के सदस्य परियोजनाओं तथा परामर्श-सेवाओं में सक्रिय रूप से योगदान देते हैं। बड़ी संख्या में अनुसंधान एवं परामर्श सेवा परियोजनाएँ निष्पादित की गई हैं और उनमें से कुछ की तकनीकी नवोन्मेष और सामाजिक प्रासंगिकता है। चलाए जाने प्रशिक्षण कार्यक्रम व्यापक हैं और अद्यतन गतिविधियों तथा नवोन्मेषों के साथ गति बनाए रखने के लिए उन्हें निरन्तर रूप में अपडेट किया जा रहा है। शैक्षिक आवश्यकताओं तथा उद्योग की अपेक्षाओं के अनुसार, स्नातकोत्तर स्तर में नए-नए कार्यक्रम शामिल करने की योजना बनाई जाती है। रोजगार उन्मुखी कुशलता विकास कार्यक्रमों के माध्यम से हम समुदाय, विशेष रूप से ग्रामीण समुदाय के उन्नयन के लिए भी विभिन्न परियोजनाएँ चलाते हैं।

हम अपने सभी कार्यकलापों में नवोन्मेष एवं परिरक्षण के साथ जनसामान्य को कम कीमत पर अच्छी क्वालिटी का शिक्षण प्रदान करने पर दृढ़ विश्वास रखते है।

Hindi