ई-मीटर

राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (नाइलिट) चेन्नै तथा एनर्जीलि नामक चेन्नै की नई कम्पनी ऊर्जा विश्लेषण सेवाएँ प्रदान करने के लिए एसएएएस व्यवसाय मॉडल के साथ एक सॉफ्टवेयर समाधान पर कार्य कर रहा है जिससे एमएसएमई विनिर्माण उपक्रमों तथा ऊर्जा का काफी उपयोग करने वाले अन्य सेवा क्षेत्रों की लागत में कमी आएगी।

श्री कृष्णमूर्ति (नाइलिट चेन्नै के प्रभारी निदेशक) और श्री जी. दयाल नाथन (एनर्जीलि के संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी) सहमति-पत्र पर हस्ताक्षर करते हुए।

नाइलिट इलेक्ट्रॉनिकी, वीएलएसआई, अन्तर्निर्मित प्रणालियों के लिए कुशल जनशक्ति प्रशिक्षण के क्षेत्र में अपनी विशेषज्ञता उपलब्ध कराने के प्रयोजन से तमिलनाडु में कई संगठनों तथा संस्थानों के साथ मिलकर कार्य कर रहा है और रोजगार योग्यता कार्यक्रमों के लिए तमिलनाडु सरकार के साथ मिलकर कार्य कर रहा है।

श्री कृष्णमूर्ति, नाइलिट चेन्नै के प्रभारी निदेशक ने बताया कि “जैसै-जैसे भारत का विकास होता है और इसकी ऊर्जा का उपयोग बढ़ता है, इसे अपने सम्पूर्ण व्यावसायिक समुदाय की ऊर्जा की खपत का विश्लेषण करने के उपायों तथा साधनों का पता लगाना और इस प्रकार इसका उपयोग कुशलतापूर्वक करने के समाधानों की खोज करना होगा।

अनुसंधान परामर्श-सेवा संबंधी यह समझौता कई नई कम्पनियों के लिए नाइलिट चेन्नै की मूलसंरचना, प्रयोगशाला सुविधाओं, डोमेन ज्ञान तथा प्रशिक्षण सुविधाओँ के प्रयोग का मार्ग प्रशस्त करेगा जिससे वे अभिनव उत्पाद तैयार करने का साथ-साथ सॉफ्टवेयर का सम्मिश्र तैयार कर सकें और इस प्रकार माननीय प्रधान मंत्री जी के “मेक इन इण्डिया” पहल के सपने एवं लक्ष्य को साकार कर सकें।”

नई आरम्भ की गई इस अनुसंधान परामर्श-सेवा का समझौता का प्रयोजन सीटी का प्रयोग करके दस युक्तियों की विद्युत की खपत का परिमापन कम लागत पर करने के लिए एक हार्डवेयर का विकास करना है जिसका बिल ऑफ मेटिरियल्स आर्दुइनो यूएनओ प्लेटफार्म का प्रयोग करके 50 अमेरिकी डॉलर से कम होगा।

“हमें इस संयुक्त उपक्रम पर गर्व है। नाइलिट को इसके प्रशिक्षण, डोमेन विशेषज्ञता, मूलसंरचना तथा प्रयोगशाला सुविधाओं के लिए उत्कृष्ट प्रतिष्ठा प्राप्त है। भारतीय ऊर्जा प्रबंध प्रणाली का बाजार बहुत दिलचस्प है और हमारे लिए एक संभावनापूर्ण बाजार है। इसलिए, हमारी विक्रय एवं सेवा कार्याकलापों के साथ-साथ, एक कम्पनी के रूप में हम ऊर्जा की बचत करने वाले उत्पाद के विकास में पूरी तरह शामिल होना चाहते हैं और जहाँ भी संभव हो, उनकी सहायता लेना चाहते हैं”, मिशेल रोह्ड ने स्पष्ट किया।  

 

    

Hindi